Sunday, July 3, 2022
Home Tags Savarkar jeevani

Tag: Savarkar jeevani

अंत ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

★ अंत 10 फरवरी, 1949: सावरकर को अपराधमुक्त कर दिया गया था, लेकिन दिल्ली में मुफ्त चलने की अनुमति नहीं थी। दिल्ली के मजिस्ट्रेट ने...

गांधी की हत्या ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

★ गांधी की हत्या स्वतंत्रता के बाद भी हिंसा बेरोकटोक जारी है। पंजाब के दो हिस्सों से हिंदुओं और मुसलमानों का पलायन हुआ। ...

स्वतंत्रता (वीर सावरकर जी की जीवनी)

★ स्वतंत्रता 29 मई, 1947: सावरकर ने कांग्रेस नेताओं से विभाजन स्वीकार करके मतदाताओं को धोखा न देने का आग्रह किया: उन्होंने अपने चुनाव अभियान...

चुनाव ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

★ चुनाव · दिसंबर 1945: चुनाव होने थे। विजयी दल को स्वतंत्र भारत की बागडोर सौंपी जाएगी। यह तसलीम का समय था। · सावरकर...

कांग्रेस की जाँच (वीर सावरकर जी की जीवनी)

★ कांग्रेस की जाँच 1939 में, सावरकर ने हैदराबाद के निज़ाम के खिलाफ एक सफल सविनय अवज्ञा आंदोलन शुरू किया। · WWII के साथ, सरकार ने...

हिन्दू महासभा चरण ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

★ हिन्दू महासभा चरण इस समय भारत का संविधान सांप्रदायिक था; हिंदू केवल हिंदुओं को वोट दे सकते हैं, मुसलमानों को मुसलमानों के लिए और...

रत्नागिरी में सामाजिक क्रांति, भाग 2 ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

★ रत्नागिरी में सामाजिक क्रांति, भाग 2 सामाजिक सुधार के लिए सावरकर का उत्साह मानवतावाद के प्रति उनके विश्वास से उपजा था। वह सामाजिक...

अंतिम कुछ वर्षों का अंतर्द्वंद ( वीर सावरकर जी की जीवानी )

★ अंतिम कुछ वर्षों का अंतर्द्वंद · सावरकर ने सरकार को रिहा करने के लिए कई याचिकाएँ दायर कीं। उन्होंने कहा कि यह एक...

अंडमान में उपलब्धियां ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

★ अंडमान में उपलब्धियां आराम नियमों के साथ, सावरकर ने कई कारणों को सफलतापूर्वक लिया: (१) जेल में जबरन धर्म परिवर्तन पर रोक लगाना, युवा अपराधियों...

सेलुलर जेल में (वीर सावरकर जी की जीवनी)

★ सेलुलर जेल में • सावरकर को अंडमान के लिए पच्चीस साल के परिवहन के लिए लगातार दो (4 दिसंबर, 1910 और 31 जनवरी, 1911)...

Recent Posts

Popular Posts

Jayostute Poem with Hindi and English translation

जयोस्तुते श्रीमहन्मंगले ! शिवास्पदे शुभदे स्वतंत्रते भगवती ! त्वामहं यशोयुतां वंदे राष्ट्राचे चैतन्य मूर्त तू नीती-संपदांची स्वतंत्रते भगवती ! श्रीमती राज्ञी तू त्यांची परवशतेच्या नभात तूची आकाशी होसी स्वतंत्रते...