Friday, October 22, 2021
Home Article Page 2

Article

Recent Posts

Popular Posts

Veer Savarkar’s Urdu Gazals | वीर सावरकर की उर्दू ग़ज़लें

हिंदोस्ताँ मेरा यही पाओगे मेहशरमें जबां मेरी, बयाँ मेरा मैं बंदा हिंदवाला हूँ, यह हिंदोस्ताँ मेरा मैं हिंदोस्ताँ के उजडे खंडहर का एक जरां हूँ यही सारा पता...