Home Veer Savarkar Biography गिरफ़्तारी ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

गिरफ़्तारी ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

★ गिरफ़्तारी

• दिसंबर १९०८ – जनवरी १९०९: बाबाराव ने सावरकर को उनके कब्जे में पत्रों के लेखक के रूप में पहचाना और अंग्रेजों ने सावरकर के आसपास अपना जाल का तरंग शुरू कर दिया।

• मई १९०९ – बाबाराव और सावरकर के पत्रों द्वारा प्रकाशित कविताओं के अंग्रेजी अनुवाद की प्रतियां लंदन पहुँच गईं।

• जून १९०९ : ब्रिटिश सर्कार ने ग्रे के इन के बेंचर्स को सावरकर को बार से बिलाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए (सम्बंधित प्राधिकरण को पात्र और तार द्वारा) एक सफल केंद्रित अभियान शुरू किया। आखिरकार वे सफल रहे। हालांकि, ग्रे की इन द्वारा लगाए गर आरोप साबित नहीं किए जा सके, सावरकर को अभी भी अभ्यास करने की अनुमति नहीं थी क्योंकि उनकी गतिविधियों को संदिग्ध घोषित किया गया था। (इस तथ्य को बाद में वारंट देने के तर्क में इस्तेमाल किया गया था। )

• कर्जन वायली की हत्या के बाद, सावरकर ने मदन लाल ढींगरा की निंदा नहीं करने के लिए कैक्सटन हॉल में एक सार्वजनिक स्टैंड लिया और इसे सही ठहराने के लिए टाइम्स को एक पात्र भेजा। उनहोंने १६ अगस्त, १९०९ को दैनिक समाचार में, अंग्रेजों द्वारा छोड़े गए मदन लाल के बयान को प्रकाशित किया।

• नवम्बर १९०९ : स्वाश्य बिखर गया, सावरकर स्वस्थ होने के लिए वेल्स गए। वहां उनहोंने सिखों के इतिहास पर एक मराठी पुस्तक लिखी।

• जनवरी १९१० : सावरकर पेरिस गए क्योंकि उनकी गिरफ़्तारी का वारंट आसन्न था।

• ८ फरवरी, १९१०: मजिस्ट्रेट द्वारा सावरकर के खिलाफ इस आधार पर एक वारंट जारी किया गया था की उनका अपराध १८८१ के भगोड़े अपराधी अधिनियम के भीतर आया था। वारंट का आधार भड़क गया था : (१) १९०६ का सावरकर का भाषण, जिसमें से एक या कोइ भी उपलब्ध प्रतिलेख नहीं जाता था। (२) उन्हें १९०९ में इंग्लैंड में रहते हुए एक कथित अपराध के लिए बॉम्बे में प्रत्यर्पित किया जा रहा था।

• १३ मार्च १९१०, सावरकर ने ब्रिटिशों का सामना करते हुए क्रांतिकारियों के नेता के रूप में अपनी शक्ति दिखने के लिए लंदन लौट आये और स्टेशन पर उन्हें गिरफ़्तार गया।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here