Tuesday, January 25, 2022
Home 2020 October

Monthly Archives: October 2020

अंडमान में उपलब्धियां ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

★ अंडमान में उपलब्धियां आराम नियमों के साथ, सावरकर ने कई कारणों को सफलतापूर्वक लिया: (१) जेल में जबरन धर्म परिवर्तन पर रोक लगाना, युवा अपराधियों...

सेलुलर जेल में (वीर सावरकर जी की जीवनी)

★ सेलुलर जेल में • सावरकर को अंडमान के लिए पच्चीस साल के परिवहन के लिए लगातार दो (4 दिसंबर, 1910 और 31 जनवरी, 1911)...

Savarkar Case ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

★ सावरकर मामला • फ्रांस से अंग्रेजों द्वारा सावरकर की जबरन, बिना सोचे-समझे प्रत्यर्पण के कारण मैडम कामा, श्यामजी कृष्णवर्मा और फ्रांसीसी समाजवादी नेताओं की...

Marseilies Escape ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

★मार्सिलेस पलायन • ब्रिटिश राज की ताकत पर एक धब्बा लगाने के लिए अकेले सावरकर जिम्मेदार थे और उससे उन्हें बहुत शर्मिंदगी हुई : १)...

गिरफ़्तारी ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

★ गिरफ़्तारी • दिसंबर १९०८ - जनवरी १९०९: बाबाराव ने सावरकर को उनके कब्जे में पत्रों के लेखक के रूप में पहचाना और अंग्रेजों ने...

लंदन की गतिविधियां ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

★ लंदन की गतिविधियां • सावरकर के प्रचार (लेखों को प्रकाशित करना, अभी भी विदेशी अखबारों में और अन्य देशों के क्रांतिकारियों से मिलना) ने...

लंदन का लक्ष्य ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

★ लंदन का लक्ष्य • सावरकर के नेतृत्व में इंडिया हॉउस, लंदन क्रन्तिकारी मुख्यालय बन गया। अभिनव भारत ने यहां ताकत एकत्र की और उनहोंने...

फर्ग्यूसन कॉलेज, पुणे के दिन (वीर सावरकर जी की जीवनी)

★ फर्ग्यूसन कॉलेज, पुणे • जनवरी १९०२ में सावरकर ने फर्ग्यूसन कॉलेज में दाखिला लिया और तूफ़ान के कारण पुणे ले गए। • १९०४ में, उन्होंने...

शरुआत ( वीर सावरकर जी की जीवनी )

★ शरुआत... • इस अष्टभुजा देवी की मूर्ति के सामने सावरकर ने शपथ ली। • देशभक्ति की भावना से जलते हए, ४ अप्रैल, १८९८ को देशभक्त...

वीर सावरकर जी का बचपन

★ बचपन ⚫ विनायक दामोदर सावरकर का  जन्म २८ मई १८८३ को रात १० बजे, नासिक के पास एक गांव भागुर में...

Recent Posts

Popular Posts

Jayostute Poem with Hindi and English translation

जयोस्तुते श्रीमहन्मंगले ! शिवास्पदे शुभदे स्वतंत्रते भगवती ! त्वामहं यशोयुतां वंदे राष्ट्राचे चैतन्य मूर्त तू नीती-संपदांची स्वतंत्रते भगवती ! श्रीमती राज्ञी तू त्यांची परवशतेच्या नभात तूची आकाशी होसी स्वतंत्रते...